Locked

शिवशम्भु के चिट्ठे

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
शिवशम्भु के चिट्ठे  (1985) 
द्वारा बालमुकुंद गुप्त
[  ]
शिवशम्भु के चिट्ठे.djvu
[  ]










ऋषभचरण जैन एवम् सन्तति
[  ]
बाबू बालमुकुन्द गुप्त


कृत

शिवशम्भु के चिट्ठे




सम्पादक

डॉ॰ विजयेन्द्र स्नातक


शिवशम्भु के चिट्ठे.djvu
[  ]
@ दिग्दर्शन चरण जैन
नयी दिल्ली









प्रथम संस्करण

मूल्य

प्रकाशक




मुद्रक


१९८५

रु. १५.००

दिग्दर्शन चरण जैन
ऋषभचरण जैन एवम् सन्तति
४६६२/२१ दरियागंज, नई दिल्ली
११ गार्डन रीच, कुलड़ी मसूरी

रुचिका प्रिण्टर्स
नवीन शाहदरा, दिल्ली-११००३२


Shivashambhoo ke Chitthe by Babu Balmukund Gupt.

Ed. by Dr. Vijyendra Snatak Price Rs. 15.00 [  ]
भूमिका
गूंगी प्रजा का वकील : शिवशंभु शर्मा


हिन्दी में व्यंग्य-विनोद की सजीव शैली के पुरस्कर्ताओं में बाबू बालमुकुंद गुप्त के 'शिवशंभु के चिट्ठे' अपना अप्रतिम स्थान रखते हैं। शिवशम्भु के कल्पित नाम से, गुप्तजी ने लार्ड कर्जन के शासनकाल में, भारतीय जनता की दुर्दशा को प्रकट करने के लिए आठ चिट्ठे लिखे थे। ये चिट्ठे उस समय की राजनीतिक गुलामी और लार्ड कर्जन की निर्मम क्रूरताओं को जितने सटीक रूप में प्रस्तुत करते हैं, उतनी पूर्णता के साथ उस समय का कोई दूसरा अभिलेख नहीं करता। इतिहास के पृष्ठों में जो जानबूझकर अंकित नहीं किया गया उसे यदि पढ़ना अभीष्ट हो तो इन चिट्ठों को पलटना चाहिए। ये चिट्ठे १९०३ ई॰ से १९०५ ई॰ के मध्य 'भारतमित्र' में प्रकाशित हुए थे। उस समय गुप्तजी ही 'भारतमित्र' के सम्पादक थे।

शिवशंभू परतंत्र देश का नागरिक है। मन बहलाव के लिए वह भांग का सेवन करता है। भांग का नशा उसकी चेतना को विलीन नहीं करता, हल्का-सा सरूर होता है जो मादक ने होकर मन को तरंगायित करने में समर्थ है। मन की इसी प्रमुदित तरंग में शिवशंभु अपने चारों ओर फैले हुए समाज के दुःख-दर्द की कहानी कहना शुरू करता है। गुलामी की निविड़ शृंखलाओं में जकड़ा हुआ भारतीत शिवशशंभु अपने अस्तित्व को यदि अनुभव कर पाता है तो केवल परतंत्र भारत की पामाली के लिए जो षड्यंत्र अपने शासन काल में रचे, उनका संकेत इन चिट्ठों में लेखक


PD-icon.svg यह कार्य भारत में सार्वजनिक डोमेन है क्योंकि यह भारत में निर्मित हुआ है और इसकी कॉपीराइट की अवधि समाप्त हो चुकी है। भारत के कॉपीराइट अधिनियम, 1957 के अनुसार लेखक की मृत्यु के पश्चात् के वर्ष (अर्थात् वर्ष 2020 के अनुसार, 1 जनवरी 1960 से पूर्व के) से गणना करके साठ वर्ष पूर्ण होने पर सभी दस्तावेज सार्वजनिक प्रभावक्षेत्र में आ जाते हैं।

यह कार्य संयुक्त राज्य अमेरिका में भी सार्वजनिक डोमेन में है क्योंकि यह भारत में 1996 में सार्वजनिक प्रभावक्षेत्र में आया था और संयुक्त राज्य अमेरिका में इसका कोई कॉपीराइट पंजीकरण नहीं है (यह भारत के वर्ष 1928 में बर्न समझौते में शामिल होने और 17 यूएससी 104ए की महत्त्वपूर्ण तिथि जनवरी 1, 1996 का संयुक्त प्रभाव है।

Flag of India.svg