Locked

कवितावली

विकिस्रोत से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
कवितावली  (1933) 
द्वारा तुलसीदास

[  ]


श्रीगोस्वामी तुलसीदासकृत

कवितावली

(सटीक)





चम्पाराम मिश्र बी० ए०, एम० ए० एस० बी०

(दीवान, छन्नपुर स्टेट)



प्रकाशक

इंडियन प्रेस, लिमिटेड, प्रयाग

थमावृत्ति]
[मूल्य
सं० १९९० वि०
[  ]

Published by

K. Mittra.

At The Indian Press, Ltd.

Allahabad.










Printed by

A. Bose,

at The Indian Press, Ltd

Benares Branch.

[  ]




कवितावली.pdf

पं॰ चम्पाराम मिश्र, बी॰ए॰

[  ]कवितावली की अनेक टीकाए छप चुकी हैं; परन्तु वे विशेषतः ऐसी

भाषा में हैं जिनका समझना कठिन हो जाता है। यह देखकर हमारा विचार हुआ कि प्रचलित बोल-चाल की भाषा में एक टीका लिखी जाय जो जनवा और विद्यार्थी दोनों के काम की हो। इस विचार से हमने सन् १६१५-१६ में एक टीका लिखी जो सन् १९६१७ में समाप्त हुई। सन् १६१८ में उसी के आधार पर हमने तुलसीदास के जीवनचरित्र से सम्बन्ध रखनेवाला एक लेख 'सरस्वती' में निकाला और सन् १६२५ में एक विस्तृत समालोचना लिखकर उसे भी 'सरस्वती' में प्रकाशित कराया। यही प्रस्तुत पुस्तक की भूमिका का आधार है। अनेक कारणों से, जिनका यहाँ पर उल्लेख करना व्यर्थ है, टीका के छपने में विलम्ब हुआ। इसी बीच कुछ और टीकाएँ प्रकाशित हो गई परन्तु वे विद्यार्थियों के ही काम की हैं। हम ऐसा संस्करण निकालना चाहते थे जो जनता और विद्यार्थी दोनों के काम का हो। इसलिए उसी की ओर विशेष ध्यान दिया गया है। इस टीका में कथाएँ भी अधिक दी गई हैं और इसमें एक ऐसी अनुक्रमणिका लगाई गई है जिससे प्रत्येक छन्द का, आसानी से, पता लग सकता है। छन्दों के काण्डबद्ध अङ्क और सम्पूर्ण अङ्क् दोनों इस अनुक्रमणिका में दिये गये हैं। इस भूमिका में छात्रोपयोगी बातों के अतिरिक्त तुलसीदासजी की जीवनी पर भी नया प्रकाश डाला गया है और कवितावली में जितनी बातें उनकी जीवनी के सम्बन्ध में मिल सकी हैं उनकी आलोचना की गई है।

छत्रपुर—२५-१२-१६३३

चम्पाराम मिश्र
 
[  ]
कवितावली.pdf

महराज भवानीसिंहजू देव बहादूर

छतदपुर, बुन्देलखंड (सी० आई०)

[ २८ ]विषय-सूची

विपय • बालकाण्ड • अयोध्याकाण्ड . भारण्यकाण्ड • किष्किन्धाकाण्ड सुन्दरकाण्ड • लङ्काकाण्ड उत्तरकाण्ड टिप्पणी अनुक्रमणिका -

PD-icon.svg यह कार्य भारत में सार्वजनिक डोमेन है क्योंकि यह भारत में निर्मित हुआ है और इसकी कॉपीराइट की अवधि समाप्त हो चुकी है। भारत के कॉपीराइट अधिनियम, 1957 के अनुसार लेखक की मृत्यु के पश्चात् के वर्ष (अर्थात् वर्ष 2022 के अनुसार, 1 जनवरी 1962 से पूर्व के) से गणना करके साठ वर्ष पूर्ण होने पर सभी दस्तावेज सार्वजनिक प्रभावक्षेत्र में आ जाते हैं।

यह कार्य संयुक्त राज्य अमेरिका में भी सार्वजनिक डोमेन में है क्योंकि यह भारत में 1996 में सार्वजनिक प्रभावक्षेत्र में आया था और संयुक्त राज्य अमेरिका में इसका कोई कॉपीराइट पंजीकरण नहीं है (यह भारत के वर्ष 1928 में बर्न समझौते में शामिल होने और 17 यूएससी 104ए की महत्त्वपूर्ण तिथि जनवरी 1, 1996 का संयुक्त प्रभाव है।

Flag of India.svg