पृष्ठ:अद्भुत आलाप.djvu/११५

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
११७
एक हिसाबी कुत्ता


इसकी परीक्षा करके जो बातें हैं, प्रकाशित कीं। उनका उल्लेख, संक्षेप में, नीचे किया जाता है---

इस कुत्ते का नाम हेक्टर है। गणित के यह कितने ही प्रश्न, बात-की-बात में, हल कर देता है। कितने ही मामूनी काम करने के लिये आज्ञा पाने पर, बिना किसी इशारे या विशेष प्रकार की शिक्षा के, तुरंत उन्हें ठीक-ठीक कर दिखाता है। उदा- हरण लीजिए---कमरे में एक कुरसी रक्खी थी। इसके मालिक ने आज्ञा दी---"हेक्टर, अपनी पिछली टाँगों के बल चलकर इस कुरसी को प्रदक्षिणा करो। जब कुरसी को पीठ के सामने आ जाओ, तब खड़े हो जाओ और भूँको। फिर उसी तरह कुरसी की प्रदक्षिणा करते हुए लौटो, और अपनी जगह पर जाकर बैठ जाओ।" हेक्टर ने इस आज्ञा का पालन अक्षरशः कर दिखाया। फिर उससे कहा गया---"रद्दी काग़ज़ की टोकरी को पंजे से उलट दो।" उसने वैसा ही किया। "अच्छा, अब मुँह के धक्के से उसे गिराओ।" हेक्टर ने गिरा दिया।

लोगों को यह शंका हो सकती है कि शायद सिखलाने से हेक्टर ऐसा करता हो। उसे यह सब काम करने की शिक्षा, बंदरों और रीछों की तरह, शायद पहले ही से दी गई हो। इस संदेह को दूर करने के लिये हेक्टर के और करतब सुनिए।

बिजली की जैसी घंटियाँ रेल के तार-घरों में रहती हैं, वैसी ही एक घंटी हेक्टर के सामने रखी गई। हेक्टर उसकी की (खटका देनेवाली चाभी) पर अपना पंजा रखकर