पृष्ठ:अद्भुत आलाप.djvu/४

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।


निवेदन
(तृतीय आवृत्ति पर)

हर्ष की बात है, हमारे द्वितीय संस्करण के निवेदन के अनुसार यू॰ पी॰ की टेक्स्ट-बुक-कमेटी ने इस पुस्तक को अँगरेज़ी स्कूलों की आठवीं कक्षा के लिये मनोनीत किया है। क्या अन्य प्रांतों की टेक्स्ट-बुक-कमेटियाँ, हिंदी-साहित्य सम्मेलन, दक्षिण भारतीय हिंदी-प्रचार-सभा और भिन्न-भिन्न प्रांतों के गुरुकुल आदि भी ऐसा ही करने की कृपा करेंगे? मनोरंजक होने के अतिरिक्त हिंदी के सर्वश्रेष्ठ गद्य-लेखक, आचार्य द्विवेदीजी महाराज की ललित लेखनी द्वारा लिखी हुई होने के कारण यह पुस्तक बालकों को हिंदी-भाषा सिखलाने के लिये अद्वितीय सिद्ध हुई है।

१ । ७ । ३४ दुलारेलाल