पृष्ठ:अन्तस्तल.djvu/१९१

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।



खेल

मैं खूब सावधानी से खेला, पर भाग्य ने साथ न दिया। बाजी अन्त मे 'मृत्यु' के हाथ रही।।