पृष्ठ:अन्तस्तल.djvu/१९०

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।



जल और रजकण

देखा, जल और रजकण किस तरह परस्पर प्रम मे मग्न है। जल तो बहा जा रहा है और रजकण आ आद्रभाव से पीछे लुढ़क रहा है। सुना था रजकण मे स्नेह का सर्वथा अभाव है।

निश्चय ही कहीं कुछ छिपा है। वहाँ, जहॉ-आकाश जलराशि में डूब जाता है, यह रजकण पहुँच कर अवश्य ही कुछ प्राप्त करेगा।