पृष्ठ:अन्तस्तल.djvu/४

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।






‘सेर भर जलता है जब खूने जिगर शाइर का।

तब नजर आती है एक मिसरए तर की सूरत॥’
(मोमिन)