पृष्ठ:अमर अभिलाषा.djvu/२३०

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


अमर अभिलाषा- का - मानती ने उस कमरे में पलंग के सिरहाने रक्खी हुई एक चिलमची उठाकर पूरे वेग से काली वावु के सिर पर दे मारा ।