पृष्ठ:कर्बला.djvu/८२

विकिस्रोत से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
यह पृष्ठ जाँच लिया गया है।
८२
कर्बला

करता है। तुम्हारी नरमी कमजारों की नरमी नहीं होनी चाहिए, जिसे खुशामद कहते हैं। उसमें हुकूमत की शान क़ायम रहनी चाहिए। बस, जानो।

[ ज़ियाद शरीक और क़ासिद चले जाते हैं। ]

जुहाक---नरगिस का बुलाओ, ज़रा ग़म ग़लत करे। ( गुलाब के हाथ से शराब का प्याला लेकर ) यह मेरी फ़तह का जाम है।

रूमी---मुबारक हो, ( दिल में ) ज़ियाद तुम्हें डुबा देगा, तब नरमा का मज़ा मालूम होगा।

[ नरगिस ज़ुहाक की पीठ पर बैठी हुई आती है। ]

यज़ीद---शाबाश नरगिस, शाबाश, क्या खूब खच्चर है। इसकी काई तशबीह ( उपमा ) देना शम्स।

शम्स---मुर्ग़ के सिर पर ताज है।

रूमी---लीद पर मक्खी बैठी हुई है।

नरगिस---( गर्दन पर से कूदकर ) लाहौल-बिला-कूवत।

यज़ीद---वल्लाह, इस तशबीह से दिल खुश हो गया। नरगिस, बस इसी बात पर एक मस्ताना ग़ज़ल सुनाया। खुदा तुम्हारे दीवानों को तुम पर निसार करे।

नरगिस गाती है---

शबे-वस्ल वह रूठ जाना किसी का,
वह रूठे को अपने मनाना किसी का।
कोई दिल को देखे न तिरछी नज़र से ,
ख़ता कर न जाये निशाना किसी का।
अभी थाम लोगे तुम अपने जिगर को,
सुनो तो सुनाएँ, फ़िसाना किसी का।
ज़रा देख ले चल के सैयाद तू भी,
कि उठता है अब आब-दाना किसी का।
वह कुछ सोचकर हो लिये उसके पीछे,
जनाजा हुआ जब रवाना किसी का।