पृष्ठ:कवि-प्रिया.djvu/३५५

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


( ३३७ ) द्वितीय धनुषबद्ध NaipalNAGAR hd मान सर्वतोभद्र अथ सर्वतोभद्र श्लोक सीता सी न न सीता सी तार मार रमा रता । सीमा कली लीक मासी नरली न नलीरन ।।६।। २२