पृष्ठ:कवि-प्रिया.djvu/३६२

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


अथ मत्रीगति चित्र IN IN ज ज h her her । ये राज २ व जा म च हो| ब र पा न पि यधृ त था जअ बै हरि क्यो न म ना व त| ( ३४२ ) अथ डमरूबद्ध चौकीबद्ध नर सरवर श्री सदातन मन सरस सुर बसि करन । नरकसि विरसुसकल सुख दुख हीन जीवन मरन ।। नर मन जीवन हीन रदय सदय मति मतहरन । नरहत मति मय जगत केशवदास श्रीबसकरन ॥१२॥