पृष्ठ:कवि-प्रिया.djvu/४५

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है
३३

मुझे कुछ ध्यान भो है। उसके नेत्र बाणो से भी बढकर तीक्ष्ण है । उन्होने शरीर बेध डाला, मन बेघ डाला और मन की बुद्धि विवेकशक्ति भी बेध डाली। ( इसमे 'बेघना' क्रिया तीन बार भिन्न-भिन्न सज्ञामी के साथ प्रयुक्त हुई हैं, अत पुनरुक्ति दोष नहीं है । देश-विरोध दोष मलयानिल मन हरत हठ, सखद नर्मदा कूल । सुबन सघन घनसार मय, तरुवर तरल सुफूल ॥५४॥ नर्मदा का किनारा सुखदायी है। वहाँ मलयानिल हठपूर्वक मन को हर लेता है। वहीं सुन्दर घने कपूर के बन तथा सुन्दर फूलोवाले वृक्ष हैं। ( इसमे नर्मदा नदी के किनारे मलयानिल और कपूर का वर्णन करना देश-विरुद्ध है।) मरुसुदेश मोहन महा, देखौ सकल सभाग। अमलमलकुलकतितजह, पूरण सलिल तड़ाग ॥५५॥ सभी भाग्यशालियो देखो। मरुदेश बडा ही सुन्दर और मन को हरनेवाला है, जहाँ पानी से भरे हुए तालाबो में निर्मल कमल खिले हुए है। ( इसमे भी मरुभूमि के जल से भरे हुए तालाबो मे कमलो का वर्णन करना देश विरुद्ध है क्योकि मरुभूमि मे तालाबो का अभाव होता है। काल विरोधी दोष प्रफुलित नव नीरज रजनि, बासर कुमुद विशाल । कोकिल शरद मयूर मधु, वर्षा मुदित मराल ॥५६॥ रात मे नवीन कमल और दिन में विशाल कुमुद पुष्प खिले है। शरद ऋतु मे कोयल, वसन्त मे मोर और वर्षा में हँस प्रसन्न होते है। ( इसमे रात को कमल, दिन मे कुमुदिनी, शरद ऋतु मे कोयल, बसन्त में मोर और वर्षा मे हंसो का वर्णन करना काल विरुद्ध है।)