पृष्ठ:कवि-प्रिया.djvu/७१

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


५७ । और चन्द्रमा श्वेत रग के माने जाते है । 'पुष्कर' तीर्थ जल से भी कहते हैं और लाल कमल' से भी। पहला श्वेत रंग का माना जाता है तथा दूसरा लाल रंग का सूचक है। ____ 'हंस हंसरवि वरणिये, 'अर्कः फटिक रवि मानि । ___ 'अब्ज' शख सरसिज दुवौ, कमलकमलजलजानि ॥४६॥ 'हस' शब्द के 'हस पक्षी' और 'सूर्य' दोनो अर्थ माने जाते है। 'हस' श्वेत रग का बोधक है और सूर्य' लाल रंग के सूचक हैं । 'अर्क' शब्द के 'स्फटिक' और 'सूर्य' दोनो अर्थो मे स्फटिक से श्वेत रग माना जायगा और 'सूर्य' से लाल रग । 'अब्ज' शब्द के 'कमल' और 'शखर दो अर्थ है । कमल लाल रंग का सूचक है तथा 'शख' श्वेत रंग का । इसी प्रकार 'कमल' शब्द से 'कमल' और 'जल' अर्थ सूचित होते है । 'कमल' लाल माना जाता है और 'जल' श्वेत समझा जाता है।