पृष्ठ:कवि-प्रिया.djvu/९८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


( ५३ ) और मरा चित्त दिशाओ के चाक पर चढ कर, घाम, वर्षा और जाडे का ध्यान न रखते हुए, पृथ्वी से लेकर आकाश तक का चक्कर लगाया करते है । मे अपने शरीर को ( वापी, कुऑ और तालाब आदि की तरह कब तक स्थिर ) रखू । इसलिए मैने सोचा है कि मै ज्ञान के पहाड को फोडकर और लज्जा के वृक्ष को तोडकर उनसे (प्रियतम से ) इस तरह जा मिलू जैसे नदी पहाडो और वृक्षो को तोडती हुई स्वय समुद्र मे जा मिलती है। २८-दानि वर्णन दोहा गौरि, गिरीश, गणेश, निवि गिरा, ग्रहन को ईश । चिन्तामणि सुरवृक्ष, गो, जगमाता, जगदीश ॥६२॥ रामचन्द्र, हरिश्चन्द्र, नल, परशुराम दुखहणे । केशवदास, दधीचि, पृथु, बलि, सुविभीषण, कर्ण ॥६३॥ भोज, विक्रमादित्य, नृप, जगदेव रणधीर । दानिन हूँ के दानि, दिन, इन्द्रजीत बरवीर ॥६४॥ गौरी (श्री पार्वतीजी , गिरीश (श्री शङ्कर जी ), श्री गणेश, विधि ( श्री ब्रह्मा जी ,, सूर्यदेव, चिन्तामणि, सुरवृक्ष ( कल्पवृक्ष ), सुरगो ( कामधेनु ), जगमाता । श्री लक्ष्मीजी ), जगदीश ( श्री नारायण ', श्रीरामचन्द्र, श्रीहरिश्चन्द्र, राजानल, श्री परशुराम, दधीचि, राजापृथु, राजा बलि, विभीषण, करण, राजा भोज, राजा विक्रमादित्य, राजा रणधीर जगद्दव । राजा इन्द्रजीत के बड़े भाई ) और दानियो के भी दानी प्रतिदिन दान करनेवाले इन्द्रजीत तथा वीरवल दानी माने जाते है। उदाहरण गौरी का दान दोहा पावक, फनि, विष, भस्म, मुख, हरपवर्गमय मानु । देत जु है अपवर्ग कहुँ, पारवतीपति जानु ॥६॥