पृष्ठ:कुछ विचार - भाग १.djvu/७७

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


कुछ विचार ::

के किसान भी अगर ज्यादा नहीं समझते, तो साधारण पढ़े-लिखों के बराबर तो समझ ही लेते हैं। इसी तरह अन्य विपयों की चर्चा भी जनता के सामने होती रहती तो हमें यह शिकायत न होती कि जनता हमारे विचारों को समझ नहीं सकती। मगर हमने जनता की परवाह ही कब की है ? हमने केवल उसे दुधार गाय समन्ना है। वह हमारे लिए अदालतों में मुकदमें लाती रहे, हमारे कारखानों की बनी हुई चीजें खरीदती रहे । इनके सिवा हमने उससे कोई प्रयोजन नहीं रखा, जिसका नतीजा यह है कि आज जनता को अंग्रेजों पर जितना विश्वास है उतना अपने पढ़े-लिखे भाइयों पर नहीं। संयुक्त-प्रान्त के साविक से पहले के गवर्नर सर विलियम मैरिस ने इलाहाबाद की हिन्दुस्तानी एकेडेमी खोलते वक्त हिन्दी-उर्दू के लेखकों को जो सलाह दी थी, उसे ध्यान में रखने की आज भी उतनी ही ज़रूरत है, जितनी उस वक्त थी, शायद और ज्यादा । आपने फ़रमाया, क्या हिन्दी के लेखकों को लिखते वक्त यह समझते रहना चाहिये कि उनके पाठक मुसलमान हैं ? इसी तरह उर्दू के लेखकों को यह खयाल रखना चाहिए कि उनके कारो हिन्दू हैं। यह एक सुनहरी सलाह है और अगर हम इसे गाँठ बाँध लें, तो ज़बान का मसला बहुत कुछ तय हो जाय । मेरे मुसलमान दोस्त मुझे माफ फरमायें अगर मैं कहूँ कि इस मुआमले में वह हिन्दू-लेखकों से ज्यादा खतावार हैं। संयुक्तप्रांत की कॉमन लैंग्वेज रीडरों को देखिये। आप सहल किस्म की उर्दू पायेंगे। हिन्दी की अदबी किताबों में भी अरबी और फारसी के सैकड़ो शब्द धड़ल्ले से लाये जाते हैं, मगर उर्दू- साहित्य में फारसीयत की तरफ ही ज्यादा झुकाव है। इसका सबब यही है कि मुसलमानों ने हिन्दी से कोई ताल्लुक नहीं रखा है, और न रखना चाहते हैं। शायद हिन्दी से थोड़ी सी वाक़मियत हासिल कर लेना भी वह ब सरे-शान समझते हैं, हालाँकि हिन्दी वह चीज़ है, जो एक हफ्ते में आ जाती है। जब तक दोनों भाषाओं का मेल न होगा, हिन्दुस्तानी जबान की गाड़ी जहाँ आकर रुक गई है उससे आगे न बढ़