पृष्ठ:कोड स्वराज.pdf/१६३

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।


कोड स्वराज पर नोट

भी आवेदन या सदस्यता नहीं होती थी। मैंने उस विषय पर समय लगाया है कि उन दस्तावेजों को कैसे उपलब्ध किया जा सकता है, जो आई.ई.टी.एफ डाटाबेस का निर्माण करते हैं, और बाद में मैंने, मार्शल टी. रोज़ के साथ मानकों के लिए, संलेखन भाषा (ऑथिरिंग लैंग्वेज) पर काम किया जिसका प्रयोग आज भी किया जा रहा है।

इंटरनेट ने, ओ.एस.आई (OST) के खिलाफ लड़ाई जीती। हमने यह पाया कि जब कभी भी बड़ी समस्या होती है जिसका समाधान असंभव लगता है तब हमारा ओपन नेटवर्क, इसका कोई-न-कोई समाधान हमेशा निकाल लेता है। सहसा कोई नया स्नातक विद्यार्थी, कोई ऐसा उपाय ढूंढ़ निकालेगा जिससे चीजों को बेहतर तरीके से किया जा सकता है। इंटरनेट की प्रगति, हमारी सभी कल्पनाओं की परिधियों को लांघ चुकी है, लेकिन हम कम से कम इस बात पर तो जरुर फ़ख़ करेंगे कि हमने, इसकी प्रगति में राह में कभी कोई रुकावट नहीं डाले। ओ.एस.आई (OSI) दल ने इसे नहीं समझा और अब वे इतिहास के एक पन्ने में, एक छोटे फुटनोट तक ही सीमित रह गये हैं।

...

कोड स्वराज इंटरनेट के लिए वास्तविक रहा है हालांकि अब भी हमलोग, बड़े दीवारों का सामना कर रहे हैं। यदि आपने लाइनक्स का प्रयोग किया है तो आप यह देख पायेंगे कि कंप्यूटर का संचालन कैसे किया जाता है लेकिन आप अपने आई-फोन के सोर्स कोड को देख नहीं सकते हैं। नेट के प्रोटोकॉल विवरण खुले हैं लेकिन आजकल इस पर चलने वाली ज्यादातर सेवाएं, विशाल और केंद्रित क्लाउड सेवाओं पर, स्थानान्तरित हो रही हैं। हमलोग नेट न्यूट्रैलिटी के लिये लगातार संघर्ष कर रहे हैं, और अभी भी ज्यादतर इंटरनेट से जुड़ी ज्यादा विषय आज भी खुले हुए (ओपेन सोसी हैं, और हमें इन्हें इसी रूप में रखने के लिए लड़ते रहना होगा। अब भी इंटरनेट पर, नकली खबरों, अब्यूसिव बोट्स, और नेट को खराब करने के अनेक प्रपंचों के आक्रमण हो रहे हैं ताकि इसे अपकृत कर, बंद किया जा सके।

हमें अपने दृष्टिकोण को, सिर्फ इंटरनेट को खुला और करमुक्त करने के काम से ज्यादा उपर रखना चाहिए। हमें उन्ही सिद्धांतों को जीवन के अन्य क्षेत्रों में भी लागू करने के प्रयत्न करना चाहिए। कोड स्वराज का सिद्धान्त, कानून के क्षेत्र में भी लागू होता है। हम सही अर्थों में लोकतंत्र कैसे बन सकते हैं, अगर जिन कानूनों के माध्यम से हम सरकार का निर्माण करते हैं वे ही अधूरे हैं, तकनीकी रूप से त्रुटिपूर्ण हों, और महंगे हों? जब आज वकील, विक्रेता

द्वारा संचालित एक पुराने और घटिया सिस्टम को उपयोग करने को बाध्य है, जैसे वह कंपनी, जो हमें जौर्जिया लॉ के एकमात्र अभिगमन (एक्सेस) के लिये, एक तकनीकी रूप से त्रटिपूर्ण सोफ्टवेयर को उपयोग करने को, और अनगिनत शर्तों को मानने को बाध्य करती हैं। यहां तक कि पब्लिक सिस्टम, जैसे यू.एस फेडरल कोट्र्स का अभिगमन भी, निहायत अयोग्य और महंगे कैश रजिस्टर के पीछे छिपा है जिससे कोई भी साधारन कार्य करना असंभव सा लगता है, जैसे कि गोपनीयता के अतिक्रमण के अध्ययन के लिए, सभी जिला न्यायलयों के कार्यों को डाउनलोड करना।

155