पृष्ठ:कोड स्वराज.pdf/८५

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।


सूचना का अधिकार, ज्ञान का अधिकारः कार्ल मालामुद की टिप्पणियां

हैज़ गिक गिकअप’ (अतिथि विचारक द्वारा सार्वजनिक व्याख्यान), न्युमा (NUMA) बेंगलुरु, 15 अक्टूबर, 2017

धन्यवाद, सैम क्या आप मुझे सुन सकते हैं? हाँ, यह एक बेहतरीन सुविधा है।

हमारी मेजबानी करने के लिए मैं न्यूमा को धन्यवाद देना चाहता हूँ और विशेष रूप से, इस समारोह का आयोजन करने के लिए हैज़ गिक' को धन्यवाद देता हूँ। खास कर संध्या रमेश ने, जिन्होने, सभी चीजों को अच्छे तरीके से संयोजित किया है। हमारा परिचय इतना अच्छा देने के लिए प्रनेश आपको धन्यवाद, और इतनी अच्छी उपदेशात्मक प्रस्तुतिकरण के लिए श्रीनिवास और टी.जे आपको भी धन्यवाद। साथ ही मैं सैम को भी धन्यवाद देना चाहूँगा जिन्होंने पुनः मुझे भारत में आमंत्रित किया।

यहाँ आना मेरा सौभाग्य है।

मेरा पेशा अजीब है। मैं एक सार्वजनिक प्रिंटर हूं।

आपने निजी प्रिंटर के बारे में सुना होगा, है ना? वे हॉलीवुड में उपन्यास लिखते हैं, और इन चीजों को प्रकाशित करते हैं।

सार्वजनिक प्रिंटर की शुरूआत सालों पहले हुई है। उस समय एक सार्वजनिक प्रिंटर था, जिसका नाम अशोक था। जो सभी का प्रिय शासक था, जिन्होंने अनेक खम्भों पर अंकित कर सरकार के अध्यादेशों को जारी किया और उन्हें पूरे भारत में फैलाया था। उन्होंने ऐसा इसलिए किया ताकि लोग कानून और धर्म को जान सकें, और यह भी जान सकें कि । जानवरों के साथ भी सही व्यवहार करना चाहिए। विभिन्न धर्मों के साथ सहिष्णुता बरतनी चाहिए।

कुछ सौ साल पहले रोम में, लोगों ने अपने शासकों के खिलाफ विद्रोह किया था और कहा था कि “आपको कानूनों को लिखना होगा। आप ऐसा कर नहीं सकते कि हम जब भी न्यायालय जाएँ आप एक कानून बना दें।” उन्होंने रोमन कानून की 12 तालिकाएँ ली और फिर उन्हें पीतल के धातु पर और लकड़ी के तख्ते पर अंकित कराया और उन्हें रोमन साम्राज्य के बाजार में रखवाया ताकि लोगों को उनके कानून का ज्ञान हो सके।

ऐसा इसलिए किया गया था क्योंकि सार्वजनिक मुद्रण ऐसी चीज है, जो हम सभी से संबंधित है। यह निजी मुद्रण से भिन्न है जहां पर आप, कुछ पैसा कमाने के लिए काम करते हैं, और फिर यह हो सकता है कि 70 सालों के बाद, या इस दिन और इस समय और 150 सालों के बाद, यह भी सार्वजनिक विषय में शामिल हो जाए। लेकिन सार्वजनिक मुद्रण ऐसी चीज है, जो हम सभी का अपना हैं। और मैं, संयुक्त राष्ट्र अमेरिका में, यह काम 37 सालों से कर रहा हूँ, सभी चीजें, सांस्कृतिक अभिलेखों से लेकर कानूनी दस्तावेजों तक।

77