पृष्ठ:खूनी औरत का सात ख़ून.djvu/१५१

विकिस्रोत से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
यह पृष्ठ अभी शोधित नहीं है।

सात खून। (१४७-) भले आदमी कायस्थ रहने हैं, उन्हीं के यहां मेरी नानी धन्धा करती थी और वहीं पर फिर हम दोनों बहनें भी चाकरी करने लग गई थीं । मेरे मालिक लाला सूकीलाल और उनकी स्त्री सलोनीदेई हम दोनों बहिनों पर बड़ी दया करते थे । महीना तो । हम दोनों का दोही रुपया था, पर पेट भर खाना और तन भर कपड़ा ऊपर से मिल जाता था। उससे हम दोनों मजे में अपना दिन काटती थीं और चार पाना महीना घर का भाड़ा भी देदिया , करती थीं । यो चार घरस तो हम लोगों के दिन मजे में कट गए, पर जब पांचवां साल शुरू हुआ, तो हम लोगों पर फिर मानों बिपत का पहाड घहरा पड़ा। उसकी कहानी यों है कि,-" उसी बीच लाला सुकीलाल और उनकी बीबी सलोनीदेई का प्लेग से परलोक घास होगया और उनके नौजवान बेटे, नो नए वकील हुए थे और जिनका नाम लूकीलाल था, हम दोनों बहिनों को बुरी नजर से देखने और छेड़ने लगे । उनकी औरत हमही दोनों के बराबर कच्ची उमर की बच्ची थी, इसलिये उस बेचारी का लूकीलाल पर कोई बस नहीं चलता था । आखिर, हम दोनों बहिनों ने आपस में यह सलाह पक्की की कि कहीं दूसरी नौकरी तलाश करके इस धन्धे को छोड़ देना चाहिए । बस, फिर हम दोनों दूसरे धन्धे की भी फिकर करतीं और उस पुराने धन्धे पर भी बराबर जाती थीं । सबेरे आठ बजे हम दोनों धन्धे पर जातीं और दीया बलते बलते अपने घर लौट आती थीं। मैं इतना भी न करती, क्योंकि मुन्नी एक दिन भी वहां नहीं रहना चाहती थी, पर लूकीलाल की नक बीबी लगिया मेरी इतनी खुशामद करता थी कि उसका मुंह जाहकर मुझसे उसका धन्धा छोड़ते नहीं बनता था। आखिर, वही काल-घड़ी आ पहुंची, जिसके कारण हम-दोनों बहिनों को इस जेल में आना पड़ा । बात यह हुई कि एक दिन जब सांझ होजाने पर हम दोनों अपने घर जाने के लिये जनाने कित से