पृष्ठ:चाँदी की डिबिया.djvu/११३

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
दृश्य २ ]
चाँदी की डिबिया
 

दिया। पल्ले सिरे का मक्खीचूस है। और देख लेना उसका बाल भी बांका न होगा।

मिसेज़ जोन्स

[ मानो आपही आप बातें कर रही हो ]

ओ जेम! हमारी लगी लगाई रोजी चली जायगी!

जोन्स

अगर ऐसा हुआ तो मैं भी उनकी ख़बर लूंगा।

न थैली कहीं गई है, न लौडा बार्थिविक कहीं गया है।

[ मिसेज़ जोन्स मेज़ के पास आती है और डिबिया को उठा लेना चाहती है, जोन्स उसका हाथ पकड़ लेता है। ]

तुम्हें उससे क्या मतलब है? मैं कहता हूं सीधे से रखदो।

मिसेज़ जोन्स

मैं इसे लौटा दूंगी और जो जो हुअा है सब साफ़ साफ़ कह दू़ंगी।

१०५