पृष्ठ:चाँदी की डिबिया.djvu/११९

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


चाँदी की डिबिया दृश्य २ । स्नो जरा होश में आओ । इन बातों से क्या फायदा ज़बान संभाल कर बात करो--खैरियत इसी में है। [वह मुह में सीटी लगाता है और स्त्री को द्वार की ओर खींचता है]. जोन्स [ झपट कर ] उसे छोड़ दो और हाथ हटालो, नहीं हड्डी तोड़ दूंगा उसे क्यों नहीं छोड़ता । मैं तो कह रहा हूँ कि मैंने ली है। स्नो [ सीटी बजाकर ] हाथ हटालो, नहीं मैं तुम्हें भी पकड़ लूँगा । . अच्छा न मानोगे? [जोन्स उससे लिपट जाता है और उसे एक धूसा मारता है । एक पुलिसमैन वर्दी पहने हुए श्राता है। ज़रा देर हाथापाई होती है, और जोन्स पकड़ लिया जाता है । मिसेज़ जोन्सर. अपने हाथ उठाती है और उनके ऊपर सिर झुका देती है।] पर्दा गिरता है।