पृष्ठ:चाँदी की डिबिया.djvu/१२१

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


दृश्य २ चांदी की डिविया जैक दादा, ज़रा सरौता बढ़ाइएगा [बार्थिविक सरौता बढ़ा देता है। वह किसी विचार में डूबा हुमा मालूम होता है] मिसेज बार्थिविक लेडी होलीरूड बहुत मोटी हो गई हैं। मैं यह बहुत दिनी से देख रही है। बार्थिविक | अनमने भाव से मोटी? [वह सरौता उठा लेता है-चेहरे पर लापर्वाही झलकने लगती है] होलीरूड परिवार का नौकरों से कुछ झगड़ा हो गया था, क्यों ? जैक दादा, ज़रा सरौता । ११३