पृष्ठ:चाँदी की डिबिया.djvu/१७०

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


चांदी की डिबिया अङ्क मिसेज़ बार्थिविक माके की बात नहीं। रोपर निजी बात है। शायद मैजिस्ट्रेट पर भी यही बीत चुकी हो। बार्थिविक [ पहलू बदल कर, मानो बोझ खिसका रहा है । तो अब आप इस मामले को अपने हाथ में रखेंगे? रोपर अगर ईश्वर की कृपा हुई ! [हाथ बढ़ाता है ] बार्थिविक [विरक्त भाव से हाथ हिलाकर ] ईश्वर की इच्छा? क्या? श्राप ?