पृष्ठ:चाँदी की डिबिया.djvu/२०८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


चाँदी की डिबिया और मैं कसम खाकर कहती हूँ कि जबसे हमारा ब्याह हुआ, उसने कभी ऐसा काम नहीं किया। हालांकि हम लोगों को बड़ी बड़ी श्राफ़त झेलनी पड़ी। [ कुछ ज़ोर देकर बात करती हुई ] मुझे विश्वास है कि अगर वह अपने आप में होते तो ऐसा काम कभी न करते । यैजिस्ट्रेट हाँ, हाँ ! लेकिन क्या तुम नहीं जानती कि यह कोई उज्र नहीं है? मिसेज़ जोन्स हाँ जानती हूँ, हजूर। [ मैजिस्ट्रेट आगे झुक जाता है और क्लार्क से बात करता है। [ पीछे की जगह से भागे को भुककर ] दादा, मैं कहता हूँ। २०.०