पृष्ठ:चाँदी की डिबिया.djvu/४३

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
दृश्य ३]
चाँदी की डिबिया
 


खयाल है कि मैंने बेजा किया तो मुझे दुःख है। मैं तो यह पहले ही कह चुका। अगर मैं पैसे पैसे को मुहताज न होता तो कभी ऐसा काम न करता।

बार्थिविक

चालीस पौंड में से अब कितने बच रहे?

जैक

१ ॥
[हिचकता हुआ]

ठीक याद नहीं, मगर ज्य़ादा नहीं है।

बार्थिविक

आख़िर कितना?

जैक

[उद्दंडता से]

एक पैसा भी नहीं बचा।

बार्थिविक

क्या?

३५