पृष्ठ:जायसी ग्रंथावली.djvu/३५

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है
(१५)


दिल्ली से एक पत्र अलाउद्दीन को मिला जिसमें हरेव लोगों के फिर से चढ़ आनेका समाचार लिखा था । बादशाह ने जब यह देखा कि गढ़ नहीं टूटता है तब उसने कपट की एक चाल सोची। उसने रत्नसेन के पास संधि का एक प्रस्ताव भेजा और यह कहलाया कि मुझे पद्मिनी नहीं चाहिए, समुद्र से जो पाँच अमूल्य वस्तुएँ तुम्हें मिली हैं । उन्हें देकर मेल कर लो । राजा ने स्वीकार कर लिया और बादशाह को चित्तौर गढ़ के भीतर ले जाकर बड़ी धुमधाम से उसकी दावत की । गोरा और बादल नामक विश्वासपात्र सरदारों ने राजा को बहुत समझाया कि मुसलमानों का विश्वास करना ठीक नहीं, पर राजा ने ध्यान न दिया । वे दोनों वीर नीति सरदार रूटकर अपने घर चले गए । कई दिनों तक बादशाह की मेहमानदारी होती रही। एक दिन वह टहलते टहलते पद्मिनी के महलों की ओर भी जा निकला,जहाँ एक से एक रूपवती स्त्रियाँ स्वागत के लिये खड़ी थीं। बादशाह ने राघव से, जो बारबार उसके साथ साथ था, पूछा कि ‘इनमें पद्मिनी कौन है ?’ राघव ने कहा ‘पद्मिनी इनमें कहाँ ? ये तो उसकी दासियाँ हैं ।’ बादशाह पद्मिनी के महल के सामने ही एक स्थान पर बैठकर राजा के साथ शतरंज खेलने लगा । जहाँ वह बैठा था वहाँ उसने एक दर्पण भी रख दिया था कि पद्मिनी यदि झरोखे पर आवेगी तो उसका प्रतिबिंब दर्पण में देखूगा । पद्मिनी कुतूहलवश झरोखे के पास आई और बादशाह ने उसका प्रतिबिंब दर्पण में देखा । देखते ही वह बेहोश होकर गिर पड़ा । अंत में बादशाह ने राजा से विदा माँगी । राजा उसे पहचान के लिये साथ सथ चला । एक एक फाटक पर बादशाह राजा को कुछ न कुछ देता चला। अंतिम फाटक पार होते ही राघव के इशारे से बादशाह ने रत्नसेन को पकड़ लिया और बाँधकर दिल्ली ले गया । वहाँ राजा को तंग कोठरी में बंद करके वह अनेक प्रकार के भयंकर कष्ट देने लगा। इधर चित्तौर में हाहाकार मच गया। दोनो रानियाँ रो रोकर प्राण देने लगीं । इस अवसर पर राजा रत्नसेन के शत्रु कुंभलनेर के राजा देवपाल को दुष्टता सूझी। उसने कुमुदिनी नाम की दूती को पद्मावती के पास भेजा । पहले तो पद्मिनी अपने मायके की स्त्री सुनकर बड़े प्रेम से मिली और उससे अपना दु:ख कहने लगी, पर जब धीरे धीरे उसका भेद खुला तब उसने उचित दंड देकर उसे निकलवा दिया । इसके पीछे अलाउद्दीन ने भी जोगिन के वेश में एक दूतो इस आशा से भेजा कि वह रत्नसेन से भेंट कराने के बहाने पद्मिनी को जोगिन बनाकर अपने साथ दिल्लो लावेगो । पर उसकी दाल भी न गली । अंत में पद्मिनी गोरा और बादल के घर गई और उन दोनों क्षत्रिय वीरों के सामने अपना दुःख रोकर उससे उनसे राजा को छुड़ाने की प्रार्थना की। दोनों ने राजा को छड़ाने की दृढ़ प्रतिज्ञा की और रानी को बहुत धीरज बँधाया । दोनों ने सोचा कि जिस प्रकार मुसलमानों ने धोखा दिया है उसी प्रकार उनके साथ भी चाल चलनी चाहिए । उन्होंने सोलह सौ ढको पालकियों के भीतर सशस्त्र राजपूत सरदारों को बिठाया और जो सबसे उत्तम औौर बहुमूल्य पालकी थी उसके भीतर औजार के साथ एक लोहार का बिठाया। इस प्रकार वे यह प्रसिद्ध करके चले कि सोलह सौ दासियों के सहित पद्मिनी दिल्ली जा रही है । ।