पृष्ठ:जायसी ग्रंथावली.djvu/४४०

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


(५६) राजा रत्नसेन बैकुण्ठवास खंड तहौ लहि साँस पेट महें प्रही। जौ लहि दसा जीउ के रही । काल आाऊ देखराई साँटी। उरि जिउ चला छोडि के माटी । काकर लोग, कुढंव, घर बारू । काकर अरब दरब सारू । श्रोही घरी सब भएड परावा। मापन सोइ जो परसा, खावा . अहे जे हितू सा’ के नेगी । सवे लाग काढ़े तेहि बंगी . हाथ झारि जस चले जुवारी । तजा राजहोइ चला भिखारी ॥. जब हृत जीड, रतन सब कहा। भा बिनु जीड, न कौड़ो लहा । गढ़ सौंपा बादल कहेंगए टिकटि बसि देव । छोड़ी राम अयोध्या, जो भावे सो लेब ॥ १ ॥ -- ०: (१) साँटी = ड़ी । आापन सोइ. ..खावा = अपना अही खाया हश्रा जो और दूसरे को खिलाया। नेगी = पानेवाले । हत = टिकठि = टिकठी, था । अरथी जिसपर मुरदा ले जाते हैं । देव = राजा । जो भावै सो लेव =जो चाहे- सो ले।