पृष्ठ:जायसी ग्रंथावली.djvu/४५८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है
२७६
अखरावट

२७६ आखरावट जो एहि रस के बाएँ भएड। तेहि कहें रस बिषभर होइ गएऊ ।। तेइ सब तजा अरथ बेवहारू। औ घर बार कुटुम परिवारू ॥ खीर खाँड़ तेहि मीट न लागे। उहै बार होड़ भिच्छा ! मांग । जस जस नियर होड़ वह देखें। तस तस जगत हिया महें !! लेख पुहमी देखि न लादे दोठी ! हे & नवें न नापनि पीटी ॥ दोहा छोड़ि देतु सब धंधा, कार्डि जगत सौ हाथ। घर माया कर छोडि कै, ध काया कर साथ ॥ साँई के , बह मानिक मुकृता भरे । मन चोरहि ऐसार, मुहमद तौ किए पाइंट . ।।२१। ता तप साधनु एक पथ लागे। करह सेब दिन राति, सभागे ! ॥ श्रोहि मन लावह, है न रूटा। छोड़ह भगरायह जग झठा ।। जब हंकार ठाकुर कर थाइहि। एक थी जिज रहै न पाइहि ॥ ऋतु बसंत सब खेल धमारी। दगला अस तन, चढ़ब घटारी : ! सोह सोझागिनि जाहि सोहाग। कंत मिले जो खेले फा ॥ के सिंगार सिर सेंर । सबहि मिलि खेले ॥ मेलें माइ चाँचरि श्री जो रहे गरब के गोरी। चट दुहाग, जस । जरें होरी ॥ दोहा खे लि लेह जस खेलना, ऊख नागि देई ल।। झुमरि रख़लहु भूमि के, पूजि मनोरा गाड़ ॥ सोरठा । कहाँ तें उपने ग्राह, सवि बधि हिरदय उपजिए ! पुनि कहूँ जाहि समाई, मुहमद सो खंड खोजिए ।२२। विषभर = = ईश्वर । बिषभरा । उहै बार उसी के द्वार परनियर होइ = से । नवपीठि = पथ्वी में शुछ ठ के पीठ । निकट हर झुकाता: काया कर अपनी काया खोज कर । पैसा । ध साथ के भीतर ढूंढने लिये अपनी नहीं घसा दे : मन चोरहि पैसा = मन रूपी चोर को उस दसवें द्वार में पहुँचा । (-‘चोर पैठ जम सेंधि सँवारी'--पदमावत : पार्वती महश ग्लड ) । मिलाइए (२२) को 1 तलावा । आइदि = ग्राएगा । श्रोहि = उस ईश्वर दगला - , ऊरता । ददगल शरीर ऐसा है। हंकार -- अटारी = पर कपडा मैला और जाना है । पर प्रियतम के महल पर । दुहाग = दुर्भाग्य । उख = शरीर या मन जिसमें संसार का रस रहता है। । लाइ । = । = जलाकर मनरा मनरा झूमक, एक , प्रकार के गीत । उपने = उपन्न हुए । उपजिए=उत्पन्न कीजिएलाइए। ।