पृष्ठ:देव और बिहारी.djvu/१२६

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


१३२ देव और विहारी कैसा प्रभाव होता है, इसका उद्घाटन देवजी ने अद्भुत रीति से किया है। वे कुलवधुओं के गुण-दोष वैसी ही व्यापकता से जानते थे, जैसे नाइन, तेलिन, तमोलिन, चमारिन आदि नीच श्रेणी की स्त्रियों के । देवजी का जगद्दर्शन अत्यंत विस्तृत था। वे लौकिक बातों के पूर्ण पंडित थे । देव-माया-प्रपंच नाटक इसका प्रमाण (६) देवजी विविध शास्त्रों के भी ज्ञाता जान पड़ते हैं । वात, कफ आदि प्रकृतियों के ज्ञाता, ज्वर, त्रिदोष, सन्निपात आदि रोग-सूचक शब्दों के प्रयोक्का, पारा तथा अन्य कई औषधियों के प्रशंसक और वैद्यक-विषय पर स्वतंत्र ग्रंथ लिखनेवाले देवजी निश्चय ही वैद्यक-शास्त्र से अपरिचित न थे। स्थल-स्थल पर योग, संक्रांति, ग्रहण एवं फलित ज्योतिष का उल्लेख करनेवाले, प्रकाश की ग्रह-परिवेष से उपमा देनेवाले देवजी ज्योतिष के ज्ञाता जान पड़ते हैं। संस्कृत-महाभारत एवं भागवत आदि महापुराणों से उनका परि- चय था, यह तो स्पष्ट ही है । देव-चरित्र लिखकर उन्होंने अपने इतिहासज्ञ होने का प्रमाण आप-ही-श्राप दे दिया है। घुणाक्षर एवं मुंगी-कीट आदि न्याय तथा अच्छी-अच्छी नीति-सूक्तियों के प्रवर्तक, देवजी नीतिज्ञ अवश्य ही थे । उन्होंने 'नीति-शतक' ग्रंथ की रचना भी की है । देवजी तत्वज्ञ वेदांती भी थे । वैराग्य-शतक इसका प्रमाण है। (७) देवजी रसिक और प्रेमी पुरुष थे । वे अभिमानी पुरुष थे या नहीं यह बात विवाद-ग्रस्त है। परंतु उनके उच्च आत्म- गौरव में किसी को संदेह नहीं । गुणग्राही चाहे हिंदू हो या मुसल- मान, वह समान रीति से उनका श्रादर-पात्र था । रस-विलास और कुशल-विलास को यदि वे हिंदू-नृपतियों के लिये बनाते हैं। तो भाव-विलास और सुख-सागर-तरंग मुसलमानों के लिये । पर