पृष्ठ:देव और बिहारी.djvu/१९०

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


देव और विहारी विहारीलाल धनश्याम से प्रार्थना करते हैं कि रस से सिंचन करके इसको पुनः डहडही बनाइए । रूपक का श्राश्रय लेकर विरहिणी का विरह मेटने का कवि का यह उपाय रमणीय है । दासजी ने भी रूपक का पल्ला पकड़ा है। उनकी भी घनश्याम से प्रार्थना है कि वृषभानजी की बारी (बञ्ची, फुलवारी ) को बरस करके प्रफुल्लित करें, कुभलाने से उसकी रक्षा करें। पुष्प-वाटिका से संबंध रखनेवाले भिन्न-भिन्न फूलों के नामों का कहीं श्लिष्ट और कहीं यों ही प्रयोग करके उन्होंने अपनी उक्ति की रमणीयता को प्रकट किया है। ___ उभय कवियों की सभी उक्लियों का सारांश हमने ऊपर दे दिया है। पुस्तक का कलेवर बढ़ न जाय, इसलिये हमने प्रत्येक उक्ति का विस्तृत अर्थ लिखना उचित नहीं समझा ; पर इतना अर्थ अवश्य दे दिया है, जिससे जो पाठक इन उक्तियों का अर्थ न जानते हों, उनको इनके समझने में सुगमता हो । प्रत्येक छंद के काव्यांगों पर भी हमने यहाँ पर विचार नहीं किया है । पाठकों से प्रार्थना है कि वे इन उक्तियों को स्वयं ध्यानपूर्वक पढ़ें, इन पर विचार करें । तत्पश्चात् इन पर अपना मत स्थिर करें। । ___चोरी और सीनाजोरी का निर्णय करते समय पाठकों से प्रार्थना है कि वे निन्न-लिखित बातों पर अवश्य ध्यान रक्खें- (1) पूर्ववर्ती और परवर्ती कवि के भावों में ऐसा सादृश्य है कि नहीं, जिससे यह नतीजा निकाला जा सके कि परवर्ती ने अपनी रचना पूर्ववर्ती की कृति देखकर की है ? (२) यदि भावापहरण का नतीजा निकालने में कोई आपत्ति नहीं है, तो दूसरी विचारणीय बात यह है कि जिन परिच्छदों में दोनों भाव ढके हैं, उनमें कौन-सा परिच्छद भाव के उपयुक्त है अर्थात् उसको विशेष रमणीय बनानेवाला है ? परिच्छद से हमारा अभिप्राय भाषा