पृष्ठ:देव और बिहारी.djvu/२४०

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


देव और विहारी मधुर है, इसके साक्षी सहृदय सजनों के श्रवण हैं। आइए पाठक, आपके सामने दोनों कविवरों को कुछ सुधा-सूक्तियाँ उपस्थित की जाती हैं । कृपा करके आस्वादनानंतर बतलाइए कि किसमें मिठाई और सरसता की अधिकता है- १-विहारी है कपूर-मनिमय रही मिलि तन-दुति मुकतालि ; छन-छन खरी बिचच्छनौ लखति काय तृन आलि । ले चुभकी चलि जात तित, जित जल-केलि अधीर; कीजत केसर-नीर सों तित-तित केसर-नीर । मरिबे को साहस कियो, बढ़ी बिरह की पीर ; दौरति है समुहे ससी, सरसिज, सुरभि, समीर । किती न गोकुल कुल-बधू ? काहि न को सिख दीन ? कौने ती न कुल-गली, है मुरली-मुरलीन ? अरी ! खरी सटपट परी बिधु आधे मग हेरि ; सग लगे मधुपन, लई भागन गली अंधेरि । विहारीलाल के ऊपर उद्धत पद्य-पंचक में जैसे प्रतिभा का प्रकाश प्रकट है, वैसे ही शब्द पीयूष-प्रवाह भी पूर्णता प्राप्त कर रहा है। प्रथम दोहे में "मनिमय, मिलि, मुकतालि" एवं “छन-छन, बिच-, च्छनी, छाय" में अपूर्व शब्द-चमत्कार है। उसी प्रकार दूसरे दोहे के प्रथमांश में "चुभकी चलि", "जात तित, जित जल-कलि" में अनुप्रास का उत्तम शासन सुदृढ़ करके मानो द्वितीयांश में कविवर ने "कीजत केसर-नीर सों तित-तित केसर-नीर"-सदृश अनुप्रासयुक्र चाक्य द्वारा शब्द-समृद्धि लूट ली है। तीसरे दोहे में "समुहे ससी, सरसिज, सुरभि, समीर" शब्दों का सन्निवेश सुंदर, सरस, समु- चित और सफलता पूर्ण है । ऐसा शब्द-चमत्कार निर्जीव तुकबंदी में जान डाल देता है; रसात्मक वाक्य की तो बात ही निराली है।