पृष्ठ:देव और बिहारी.djvu/२३९

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


भाषा २४७ तो मुख्य भाव तक पाठक को और भी जल्दी पहुँचा देते हैं। भाषा का एक गुण माधुर्य भी है । जिस समय कानों में मधुर भाषा की पीयूष-वर्षा होने लगती है, उस समय श्रानंदातिरेक से हृदय द्रवित हो जाता है । पर 'श्रुति-कटु'-वर्ण-शन्य मधुर भाषा, व्यापक रूप से, सभी समय और सभी अवस्थाओं में समान आनंद देनेवाली नहीं कही जा सकती। प्रचंड रण-तांडव के अवसर पर तो ओजस्विनी कर्ण-कटु शब्दावली ही चमत्कार पैदा करती है वहीं एक विशेष आनंद की सामग्री है। उत्तम भाषा के अधिकाधिक नमूने सत्काव्यों में सुलभ हैं । एक समालोचक का कथन है कि कविता वही है, जिसमें सर्वोत्तम शब्दों का सर्वोत्तम न्यास हो ( Poetry is the best words in their best orders)। भाषा-सौंदर्य का एक नमूना लीजिए- "हौं भई दूलह, वै दुलही, उलही सुख-बेलि-सी केलि घनेरी ; मैं पहिरो पिय को पियरो, पहिरी उन री चुनरी चुनि मेरी । "देव” कहा कहो, कौन सुनै री, कहा कहे होत, कथा बहुतेरी : जे हरि मेरी धरै पग-जेहरि, ते हरि चेरी के रंग रचे री।" लेखक और कवि, दोनों ही के लिये उत्तम भाषा की परमावश्य- कता है। उनकी सफलता के साधनों में उत्तम भाषा का स्थान बहुत उँचा है । साधारण-सी बात भी उत्तम भाषा के परिच्छद में जग- मगा उठती है। किंतु उत्तम भाषा लिख लेना हँसी-खेल नहीं है। इसके लिये प्रतिभा और अभ्यास, दोनों ही अपेक्षित हैं। फिर भी अनवरत परिश्रम करने से, वैसी कुछ प्रतिभा न होते हुए भी, अभ्यास द्वारा उत्तम भाषा लिखी जा सकती है। कविवर विहारीलाल एवं देव दोनों ने मधुर 'ब्रजबानी' में कविता की सरस कहानी कही है । किसकी 'बानी' विशेष रसीली तथा