पृष्ठ:देव और बिहारी.djvu/२४६

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


उपसंहार देव और विहारी की तुलनात्मक समालोचना इस ग्रंथ में अत्यंत स्थूल दृष्टि से की गई है। देवजी के ग्रंथों में माया, ज्ञान, संगीत एवं नीति का भी विवेचन है । देवजी के कविता और उसके अंगों को समझानेवाले लक्षण-लक्ष्य-संबंधी कई ग्रंथ बहुत ही उच्च कोटि के हैं। परंतु इस प्रकार के ग्रंथों की यथार्थ समालोचना प्रस्तुत पुस्तक में नहीं हो सकती । विहारीलाल ने इन विषयों पर कोई स्वतंत्र रचना नहीं की । ऐसी दशा में इन विषयों की तुलना 'देव और विहारी' में कैसे स्थान पा सकती है ? अतएव जो लोग इस पुस्तक में प्राचार्य, संगीतवेत्ता एवं ज्ञानी देव का दर्शन करने की अभिलाषा रखते हैं, उन्हें यदि निराश होना पड़े, तो कोई आश्चर्य नहीं । कविवर विहारीलाल के साथ अन्याय किए बिना हम देवजी की ऐसी रचनाओं की समालोचना कैसे करते ? जिन विषयों पर उभय कविवरों की रचनाएँ हैं, उन्हीं पर हमने समालोचना लिखने का साहस किया है। यदि संभव हुआ, तो 'देव-माया- प्रपंच-नाटक', 'राग-रत्नाकर', 'नीति-वैराग्य-शतक' तथा 'शब्द- रसायन' आदि पर एक पृथक् पुस्तक लिखी जायगी । इस पुस्तक में तुलनात्मक समालोचना के लिये विहारी को छोड़कर और ही कवियों का सहारा लेना पड़ेगा। इस पुस्तक में जो कुछ समालोचना लिखी गई है, उससे यह स्पष्ट है कि- (१) भाषा-माधुर्य और प्रसाद गुण देवजी की कविता में विहारीलालजी की कविता से अधिक पाया जाता है। भाषा का randuto- M