पृष्ठ:देव और बिहारी.djvu/२४५

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


भाषा २१३ के अर्थ समझने में आवश्यकता से अधिक परिश्रम तो नहीं करना पड़ता? उनमें लिष्टता की कालिमा तो नहीं लग गई है ? माधुर्य का मनोमोहक सौंदर्य दिखलाई पड़ता है या नहीं ? यदि ये गण देवजी की कविता में हैं, तो भाषा-विचार से देवजी का स्थान ऊँचा रहेगा । केवल शब्द-सुषमा को लक्ष्य में रखकर विहारी और देव के पद्य-पीयूष का आचमन कीजिए । हमें विश्वास है, देव का पीयूष ऑपको विशेष संतोष देगा।