पृष्ठ:देव और बिहारी.djvu/२५४

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


२६२ देव और विहारी सो प्रधान तिन माहि ।" इस विचार से छंद में उपमा का प्राधान्य है। सखी के मुख से मृगलोचनि एवं बड़े-बड़े नैन कहे गए, जिससे सखी-मुख-गर्व प्रकट है । वाचक प्राधान्य से यहाँ प्राचीन मत से उत्तम काव्य है। कुल मिलाकर छंद बहुत अच्छा है । इसमें दोष बहुत कम और सद्गुण अनेक हैं। [मिश्र-बंधु-विनोद] २-पाठांतर पर विचार मिश्र-बंधु-विनोद से लेकर जिस छंद की व्याख्या परिशिष्ट नं. १ में दी गई है, उस छंद के अंतिम पद में जो शब्दावली है, वह इस प्रकार है- "बड़े-बड़े नैनन सों ऑसू भरि-भरि दरि, गोरो-गोरो मुख बाजु ओरो-सो बिलानो जात ।" पाठांतर रूप में यह पद इस प्रकार भी मिलता है- "बड़े-बड़े नैननि सों आँसू भरि-भरि ढरि, गोरे मुख परि अाजु ओरे लौ बिलाने जात ।" एक समालोचक का आग्रह है कि दूसरा पाठ ही समीचीन है और पहला त्याज्य । पहले में श्रोले की उपमा मुख से तथा दूसरे में आँसुओ से दी गई है । आँसू कपोलों पर गिर रहे हैं। कपोल विरह-ताप के कारण उत्तप्त हैं; सो उन पर आँसू पड़ते और सूख जाते हैं । यह सब ठीक, पर द्रव आँसुओं और दृढ़ ओलों का साम्य ठीक नहीं बैठता। रंग का साम्य भी विचारणीय है। फिर नायिका का दुःख क्षण-क्षण पर उत्तरोत्तर बढ़ रहा है, यह भाव आँसू और श्रोले की उपमा से प्रकट ही नहीं होता। यदि भव- प्रवाह ज्यों-का-त्यों जारी है, तो इससे अधिक-से-अधिक यही सूचित