पृष्ठ:देव और बिहारी.djvu/२९०

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


२१८ देव और विहारी रात बीतने के बाद फिर निशा की लालिमा नहीं रह जाती। देव के छंद में प्रभात-वर्णन बिलकुल स्वाभाविक है । भार- तेंदुजी ने देव के छंद को पसंद करके अपनी सहृदयता का परि- चय दिया है। यहाँ पर इतना स्थान नहीं कि देव और केशव के सदृश- भाववाले छंदों पर विस्तार के साथ विचार किया जा सके. इसलिये यहाँ केवल एक-एक छंद देते हैं । इन दोनों छंदों में किसका छंद बदिया है, इस विषय में हम केवल इतना ही लिखना चाहते हैं कि एक छंद में विषय-मार्ग में सहायता पहुँचाने- वाली दूती का कथन है तथा दूसरे में अपना सर्वस्व न्योछा- वर करनेवाली नायिका की मर्म-भेदिनी उक्ति । एक में दती का आदेश है कि जिस नायिका को प्राज मुश्किल से फाँस लाई हूँ, उसे खूब संभालकर रखना, जिसमें विरक्त न हो जाय । दूसरे में प्राणेश्वर की अनुपस्थिति में भी उसके प्रति प्रेम की यह दशा है कि श्याम रंग के अनुरूप ही सब वस्तुएँ व्यवहार में लाई जाती हैं । ये दोनों छंद भी हमने केशव भक्त विज्ञ समालोचक की समालोचना से ही लिए हैं- नैनन के तारन मैं राखौ प्यारे, पूतरी के, मुरली-ज्यों लाय राखौ दसन-बसन में; राखौ मुज-बीच बनमाली बनमाला करि, चंदन-व्यों चतुर, चदाय राखो तन मैं। "कसोराय" कल कंठ राखौ बलि, कठुला के, • करम-करम क्यों हूँ आनी है भवन मैं ; चंपक-फली-सी बाल सूंधि-धि देवता-सी, लेहु प्यारे लाल, इन्हें मेलि राखौ तन मैं। केशव