पृष्ठ:दो सौ बावन वैष्णवन की वार्ता.djvu/४१७

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
पृष्ठ को जाँचते समय कोई परेशानी उत्पन्न हुई।


कागजाई के श्रीगोवर्द्धननाथजी को फेरि राजभोग ममग्यो। चान गणवन की वार्ता धरी। į विरियाँ क्यों आयो है ? या विनती करी, जो - महागज

1. जो - श्रीगोवर्द्धननाथजी आपु भाव

माजी तुरत ही उठि के श्रीगोवर्द्धननाथजी के T पाठे भोग सराय के सव मेवा ने पहात्रि के श्रीगुसांईजी आप अपनी बैठक में पधारे । मो पोदे । नव रूपा पोरिया अपनी द्वारपाल की मेवा किये। मो रूपा पोग्यिा मों श्रीगोव- दुननाथजी ऐसें सानुभाव हते । मो जो कछ चहिए मोम्पा पोरिया सों कहते । और रूपा पोरिया मों उष्णकाल में पंग्वा करावते । ऐसी कृपा श्रीनाथजी रूपा पोरिया के ऊपर करते। सो ऐसी रूपा पोरिया की कितनिक वार्ता हैं । मो में करन पाछे केतेक दिन में वा रूपा पोरिया की देह छटी । तब वैष्णव मिलि के अग्नि-संस्कार कियो । ता पाछे उह वात श्रीगुमां- ईजी सुनि के श्रीमुख त कहे, जो - भगवद ईच्छा होंड सो होइ। जो - श्रीगोवर्द्धननाथजी की ईच्छा प्रबल है । सो वे रूपा पोरिया श्रीगुसांईजी को ऐसो कृपापात्र भगवदीय हतो। घा प्रमग-२ पाछे एक समै श्रीगुसांईजी श्रीगोवर्द्धननाथजी के दरसन कों पधारे हते । सो श्रीनाथजीद्वार । सो गोविंदकुंड पे स्नान करि कै । सांईजी श्रीगोव के मंदिर में पधा- रत हते। कों देखि के सन्मुख करत तव सव. मारयो