पृष्ठ:नव-निधि.djvu/५३

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ प्रमाणित हो गया।
४६
नव-निधि

राजकुमार-यह नियम उस अवस्था के लिए है जब दोनों पक्ष समान शक्ति रखते हों।

मीरा-ऐसा नहीं हो सकता।

राजकुमार-आपने वचन दिया है, उसे पालन करना होगा।

मीरा-महाराज की आज्ञा के सामने मेरे वचन का कोई महत्व नहीं।

राजकुमार-मैं यह कुछ नहीं जानता। यदि आपको अपने वचन की कुछ भी मर्यादा है तो उसे पूरा कीजिए।

मीरा - (सोचकर) महल में जाकर क्या करोगे?

राजकुमार - नई रानी से दो-दो बातें।

मीरा चिन्ता में विलीन हो गई। एक तरफ़ राणा की कड़ी श्राशा थी और दूसरी तरफ अपना वचन और उसका पालन करने का परिणाम। कितनी ही पौराणिक घटनाएँ उसके सामने आ रही थीं। दशरथ ने वचन पालने के लिए अपने प्रिय पुत्र को वनवास दे दिया। मैं वचन दे चुकी हूँ। उसे पूरा करना मेरा परम धर्म है। लेकिन पति की आज्ञा को कैसे तोड़ें। यदि उनकी आज्ञा के विरुद्ध करती हूँ तो लोक और परलोक दोनों बिगड़ते हैं। क्यों न उनसे स्पष्ट कह दूं। क्या वे मेरी यह प्रार्थना स्वीकार न करेंगे ? मैंने आज तक उनसे कुछ नहीं माँगा। आज उनसे यह दान माँगूंगी। क्या वे मेरे वचन की मर्यादा की रक्षा न करेंगे ? उनका हदय कितना विशाल है। निस्सन्देह वे मुझपर वचन तोड़ने का दोष न लगने देंगे।

इस तरह मन में निश्चय करके वह बोली-कब खोल दूँ ?

राजकुमार ने उछलकर कहा-आधी रात को।

मीरा - मैं स्वयं तुम्हारे साथ चलँगी।

राजकुमार-क्यों ?

मीरा-तुममे मेरे साथ छल किया है। मुझे तुम्हारा विश्वास नहीं है।

राजकुमार ने लज्जित होकर कहा-अच्छा, तो आप द्वार पर खड़ी रहिएगा।

मीरा - यदि फिर कोई दगा किया तो जान से हाथ धोना पड़ेगा।

राजकुमार - मैं सब कुछ सहने के लिए तय्यार हूँ।