पृष्ठ:निर्मला.djvu/१२

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है
पहला परिच्छेद


आखिर नाव चकर खाने लगती है; मालूम होता है-अब डूबी, अब डूवी । तब वह किसी अदृश्य सहारे के लिए दोनों हाथ फैलाती है, नाव नीचे से खिसक जाती है। और उसके पैर उखड़ जाते हैं। वह जोर से चिल्लाई और चिल्लाते ही उसकी आँखें खुल गई। देखा तो माता सामने खड़ी उसका कन्धा पकड़ कर हिला रही थीं। LULIERE