पृष्ठ:निर्मला.djvu/१७९

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


________________

महिला पारच ere H मला को यद्यपि अपने ही घर के झन्झटों से अवकाश न था; पर कृष्णा के विवाह का सन्देशा पाकर वह किसी तरह न रुक सकी। उसकी माता ने बहुत आग्रह करके बुलाया था। सबसे बड़ा आकर्षण यह था कि कृष्णा का विवाह उसी घर में हो रहा था, जहाँ निर्मला का विवाह पहले तय हुआ था । आश्चर्य यही था कि इस बार विना कुछ दहेज लिए कैसे विवाह होने पर तैयार हो गए । निर्मला को कृष्णा क विषय में बड़ी चिन्ता रहती थी । समझती थी-मेरी ही तरह वह भी किसी के गले मढ़ दी जायगी। बहुत चाहती थी कि माता की कुछ सहायता करूँ, जिससे कृष्णा के लिए कोई योग्य वर मिले; लेकिन इधर वकील साहब के घर बैठ जाने और महाजन के नालिश कर देने से उसका हाथ भी तङ्ग था। ऐसी दशा में यह खबर पाकर उसे बड़ी शान्ति मिली । चलने की तैयारी कर दी,