पृष्ठ:निर्मला.djvu/१९७

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है
निर्मला
१९४
 

निर्मला-नाई तो कहता है कि वह जो घोड़े पर सवार हैं, वही है।

शास्त्री जी-तो फिर और किसे बता दे? वही तो हैं ही।

नाई-घड़ी भर से कह रहा हूँ; पर बहिन जी मानती ही नहीं। निर्मला ने सुधा की ओर स्नेह, ममता, विनोद और कृत्रिम तिरस्कार की दृष्टि से देख कर कहा-अच्छा, तो तुम्ही अब तक मेरे साथ यह त्रिया-चरित्र-खेल रही थीं। मैं जानती तो तुम्हें यहाँ बुलातो ही नहीं। अोफ्कोह! बड़ा गहरा पेट है तुम्हारा!! तुम महीनों से मेरे साथ यह शरारत करती चली आती हो; और कभी भूल से भी इस विषय का एक शब्द तुम्हारे मुँह से नहीं निकला । मैं तो दो-चार ही दिन में उबल पड़ती।

सुधा-तुम्हें मालूम होजाता, तो तुम मेरे यहाँ आती ही क्यों? '

निर्मला-ज़ब रे गज़ब, मैं डॉक्टर साहब से कई बार बातें कर चुकी हूँ। तुम्हारे ऊपर यह सारा पाप पड़ेगा। देखी कृष्णा तूने अपनी जेठानी की शरारत? यह ऐसी मायाविनी हैं, इनसे डरती रहना!

कृष्णा-मैं तो ऐसी देवी के चरण धो-धोकर माथे चढ़ाऊँगी। धन्य भाग कि उनके दर्शन हुए?

निर्मला-अब समझ गई। रुपए भी तुम्हीं ने भेजवाए होंगे। अब सिर हिलाया तो सच कहती हूँ, मार बैलूंगी।

सुधा-अपने घर बुला कर मेहमान का अपमान नहीं किया जाता।