पृष्ठ:निर्मला.djvu/१९९

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है
निर्मला
१९६
 

भो याद करें,रुला-रुला कर छो;मगर सहम करके रह जाती थी। बारात जनवासे चली गई थी। भोजन की तैयारी हो रही थी। निर्मला भोजन के थाल चुनने में व्यस्त थी, सहसा महरी ने आकर कहा-बिट्टी, तुम्हें सुधा रानी बुला रही हैं। तुम्हारे कमरे में बैठी हैं।

निर्मला ने थाल छोड़ दिए और घबराई हुई सुधा के पास आई, मगर अन्दर कदम रखते ही ठिठक गई-डॉक्टर सिन्हा खड़े थे।

सुधा ने मुस्करा कर कहा-लो बहिन,बुला दिया। अब जितना चाहो,फटकारो। मैं दरवाजा रोके खड़ी हूँ,भाग नहीं सकते।

डॉक्टर साहब ने गम्भीर भाव से कहा-भागता कौन है यहाँ तो सिर मुकाए खड़ा हूँ।

निर्मला ने हाथ जोड़ कर कहा-इसी तरह सदा कृपा-दृष्टि रखिएगा,भूल न जाइएगा! यही मेरी विनय है!!