पृष्ठ:निर्मला.djvu/२००

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है
सत्रहवां परिच्छेद

ष्णा के विवाह के बाद सुधा चली गई;लेकिन निर्मला मैके ही में रह गई। वकील साहब बार-बार लिखते थे; पर वह न जाती थी। वहाँ जाने को उसका जी ही न चाहता था। वहाँ कोई ऐसी चीज़ न थी, जो उसे खींच ले जाय। यहाँ माता की सेवा और छोटे भाइयों की देख-भाल में उसका समय बड़े आनन्द से कट जाता था। वकील साहब खुद आते,तो शायद वह जाने पर राजी हो जाती; लेकिन इस विवाह में मुहल्ले की कई स्त्रियों ने उनकी वह दुर्गति की थी कि बेचारे आने का नाम ही न लेते थे। सुधा ने भी कई वार पत्र लिखा; पर निर्मला ने उससे भी हीले-हवाले किए। आखिर एक दिन सुधा ने नौकर को साथ लिया; और स्वयं आ धमकी!

जब दोनों गले मिल चुकीं, तो सुधा ने कहा-तुम्हें तो वहाँ जाते ममनो डर लगता है।