पृष्ठ:निर्मला.djvu/२२२

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है
२१९
अठारहवाँ परिच्छेद
 

मुन्शी जी-बड़ी खुशी की बात है। बेहद खुशी हुई! आज से गुरु-दीक्षा ले ली है क्या?

जियाराम की नम्रता का एक चतुर्थाश और गायब हो गया। सिर उठा कर बोला-आदमी विना गुरु-दीक्षा लिए हुए भी अपनी बुराइयों पर लजित हो सकता है। अपना सुधार करने के लिए गुरु-मन्त्र कोई जरूरी चीज़ नहीं।

मुन्शी जी-अब तो लुच्चे न जमा होंगे?

जियाराम-आप किसी को लुच्चा क्यों कहते हैं, जब तक ऐसा कहने के लिए आपके पास कोई प्रमाण नहीं?

मुन्शी जी-तुम्हारे दोस्त सब लुच्चे-लफङ्गे हैं। एक भी भला आदमी नहीं। मैं तुमसे कई बार कह चुका कि उन्हें यहाँ मत जमा किया करो; पर तुमने सुना नहीं। आज मैं आखिरी बार कहे देता हूँ कि अगर तुमने उन शोहदों को जमा किया, तो मुझे पुलिस की सहायता लेनी पड़ेगी।

जियाराम की नम्रता का एक चतुर्थांश और गायब हो गया। फड़क कर बोला-अच्छी बात है; पुलिस की सहायता लीजिए! देखें पुलिस क्या करती है? मेरे दोस्तों में आधे से ज्यादा पुलिस के अफसरों ही के बेटे हैं। जब आप ही मेरा सुधार करने पर तुले हुए हैं, तो मैं व्यर्थ क्यों कष्ट उठाऊँ!

यह कहता हुआ जियाराम अपने कमरे में चला गया, और एक क्षण के बाद हारमोनियम के मीठे स्वरों की आवाज़ बाहर आने लगी!