पृष्ठ:निर्मला.djvu/२५८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है
बाईसवाँ परिच्छेद

मला न विगड़ कर पूछा-इतनी देर कहाँ लगाई?

सियाराम ने ढिठाई से कहा-रास्ते में एक जगह सो गया था।

निर्मला-यह तो मैं नहीं कहती;पर जानते हो के बज गए हैं? दस कभी के वज गए। बाजार कुछ दूर भी तो नहीं है।

सिया०-कुछ दूर नहीं। दरवाजे ही पर तो है।

निर्मला-सीधे से क्यों नहीं बोलते? ऐसा बिगड़ रहे हो जैसे मेरा ही कोई काम करने गए हो।

सिया०-तो आप व्यर्थ की वकवाद क्यों करती हैं? लिया हुआ सौदा लौटाना क्या प्रासान काम है। बनिये से घण्टों हुज्जत करनी पड़ी। वह तो कहो एक बाबा जी ने कह-सुन कर फेरवा दिया; नहीं तो किसी तरह न फेरता। रास्ते में एक मिनिट भी कहीं नहीं रुका,सीधा चला पाता हूँ।