पृष्ठ:निर्मला.djvu/२६०

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है
२५७
वाईसवाँ परिच्छेद
 


वृक्ष की छोह में बैठा रहता या पल्टनों की कवायद देखता। तीन बजे घर लौट आता।आज भी वह घर से चला;लेकिन बैठने में उसका जी न लगा-उस पर अतें अलग जल रही थीं। हा!अब उसे रोटियों के भी लाले पड़ गए। दस बजे क्या खाना न बन सकता था। माना कि बाबू जी चले गए थे। क्या मेरे लिए घर मे दो-चार पैसे भी न थे?अम्मॉ होती,तो इस तरह विना कुछ खार-पिए आने देती? मेरा अब कोई नहीं रहा!

सियाराम का मन बाबा जी के दर्शनों के लिए व्याकुल हो उठा। उसने सोचा-इस वक्त वह कहाँ मिलेंगे? कहाँ चल कर दस? उनकी मनोहर वाणी,उनकी उत्साह-प्रद सान्त्वना उसके मन को खींचने लगी। उसने आतुर होकर कहा-मैं उनके साथ ही क्यों न चला गया? घर पर मेरे लिए क्या रक्खा था?

वह आज यहाँ से चला,तो घर न जाकर सीधा घी वाले साह जी की दुकान पर गया। शायद बाबा जी से वहाँ मुलाक़ात हो जाय। पर वहाँ बाबा जी न थे। बड़ी देर तक खड़ा-खड़ा लौट आया।

घर आकर बैठा ही था कि निर्मला ने आकर कहा-आज देर कहाँ लगाई। सवेरे खाना नहीं बना,क्या इस वक्त भी उपवास होगा। जाकर बाजार से कोई तरकारी लाओ।

सियाराम ने झल्ला कर कहा-दिन भर का भूखा चला आता हूँ, कुछ पानी पीने तक को नहीं लाई। ऊपर से बाजार जाने का हुक्म दे दिया। मैं नहीं जाता बाजार! किसी का नौकर

१७