पृष्ठ:निर्मला.djvu/२७८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है
२७५
चौबीसवाँ परिच्छेद
 

लड़की ठुमकती हुई आकर पिता की गोद में बैठ गई। थोड़ी देर के लिए मुन्शी जी उसकी वाल-क्रीड़ा में अपनी अन्तर्वेदना भूल गए।

भोजन करके मुन्शी जी बाहर चले गए। निर्मला खड़ी ताकती रही। कहना चाहती थी-व्यर्थ जा रहे हो;पर कह न सकती थी। कुछ रुपए निकाल कर देने का विचार करती थी;पर दे न सकती थी।

अन्त को न रहा गया। रुक्मिणी से बोली-दीदी जी,जरा समझा दीजिए,कहाँ जा रहे हैं। मेरी तो जवान पकड़ी जायगी;पर विना वोले रहा नहीं जाता। विना ठिकाने कहाँ खोजेंगे? व्यर्थ की हैरानी होगी।

सक्मिणी ने करुण-सूचक नेत्रों से देखा;और अपने कमरे में चली गई।

निर्मला बच्ची को गोद में लिए सोच रही थी कि शायद जाने के पहले बच्ची को देखने या मुमसे मिलने के लिए आवें; पर उसकी आशा विफल हो गई। मुन्शी जी ने विस्तर उठाया और तोंगे पर जा बैठे।

उसी वक्त निर्मला का कलेजा मसोसने लगा। उसे ऐसा जान पड़ा कि अव इनसे भेंट न होगी। वह अधीर होकर द्वार पर आई कि मुन्शी जी को रोक ले; पर ताँगाचल दिया था!