पृष्ठ:प्राचीन चिह्न.djvu/८९

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
८३
ओङ्कार-मान्धाता


असल की अपेक्षा उस नकली मन्दिर ही की अधिक प्रतिष्ठा की। इसी से उस मन्दिर की प्रधानता रही।

ठाकुर जगमोहनसिह ने, जिस समय वे खण्डवा में तह- सीलदार थे, ओङ्कारचन्द्रिका नामक एक पद्यबद्ध छोटो सी पुस्तक लिखी है। उसमें उन्होंने ओङ्कारजी का अच्छा वर्णन किया है।

[जनवरी १६०५


_______