पृष्ठ:बुद्धदेव.djvu/५

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है

(२)

इसके देखने से आप को मालूम होगा कि महात्मा बुद्धदेव एफ महाविद्वाम्, दार्शनिक और धर्मपरायण महापुरुष थे। उन्होंने ऋपियों के इस कथन का “यान्यस्माकं सुचरितानि तानि त्वयोपा- स्यानि नो इतराणि का पूर्ण रूप से पालन किया था। वे संसार को कार्यकारण के अविच्छिन्न नियम में बद्ध और अनादि मानते थे और छ: इंद्रियों को जिन्हें पड़ायतन कहा है, तथा अष्टांग मार्ग को ज्ञान का साधन समझते थे । अष्टांग मार्ग ये हैं- ' . १.सम्यक् दृष्टि-अच्छे प्रकार मनोयोगसे परीक्षकवन कर देखना। २ सम्यक् संकल्प सोच विचार कर किसी काम का संकल्प करना ... जिससे संकल्प का विकल्प न हो। ३. सम्यग् वाचा-सोच विचार कर बात कहना, सत्य बोलना जिससे वचन मिथ्या वा निरर्थक न हो। ४.सम्यक् कर्म =सोच विचार कर नियमानुसार काम करना जिससे कोई कर्म निरर्थक न हो और अवश्य . परिणाम तक पहुंचे और सफल हो। ५ सम्यगाजीव सद्व्यवहार से जीविका निर्वाह करना! ६ सम्यग् व्यायाम शारीरिक और मानसिक व्यायाम को ठीक . ... . . ठोक निरंतर करते रहना जिससे आलस्य त . . आवे, मानसिक और शारीरिक शक्तियों उन्नति . .. . करती जाय और नीरोग रहें। . . ७ सम्यक् स्मृति-स्मृति ठीक रखना अर्थात् वातों को न भूलना। .८ सम्यक् समाधि-सुख दुःख के प्रभावों से प्रभावित न होना । " . .