पृष्ठ:मानसरोवर भाग 3.djvu/२२३

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


रत्ना रत्ना रहे हैं । किन्तु अवसर नहीं मिलता । रत्ना ज्योंही सामने आ जाती है, वह मत्रमुग्ध से हो जाते हैं। बाग में रोने कौन जाता है, रोने के लिए अंधेरी झोठरी हो चाहिए। इतने में रत्ना मुमकिरातो हुई कमरे में पाई । दीपक को ज्योति मन्द पड़ गई । आमार्य ने मुसकराकर कहा-अब चिराय गुल कर दूँ न । रत्ना बोली- क्यों, क्या सुम्ससे शर्म आती है। आचार्य-हां, वास्तव में शर्म आती है। रत्ना-इसलिए कि मैंने तुम्हें जीत लिया ? आचार्य-नहीं, इसलिए कि मैंने तुम्हें धोखा दिया । रत्ना--तुममें धोखा देने की क्षति नहीं है। आचार्य ---तुन नहीं जानती । मैंने तुम्हें बहुत बड़ा धोखा दिया है। -सब जानती हूँ। आचार्य-जानती हो मैं कौन हूँ ? खुछ जानती हूँ। बहुत दिनों से जानती हूँ। जन हम तुम दोनों इसी -गणीचे में खेला करते थे, मैं तुमचो मारतो धो और तुम रोते थे, मैं तुमको अपनी जूटी मिठाइयां देतो थी और तुम दौड़कर लेते थे, तब ओ मुझे तुमसे प्रेम था, हां, वह दया के रूप में व्यक होता था। आचार्य ने चकित होकर कहा-रत्ना, यह जानकर भी तुमने... रना-हाँ जानकर हो । न जानतो तो शायद न करतो। आचार्य-यह वही चारपाई है। रत्ना-और मैं घाते में। भाचार्य ने उसे गले लगाकर कहा---तुम क्षमा को देवो हो। रत्ना ने उत्तर दिया- मैं तुम्हारी चेरी हूँ। आचार्य-रायसाहब भी जानते हैं ? रत्ना-नहीं, उन्हें नहीं मालूम है। उनसे भूलकर भी न कहना, नहीं तो वह आत्मघात कर लेंगे। आचार्य-वह कोड़े अभी तक याद हैं। रत्ना-अत पिताजी के पास उसका प्रायश्चित्त करने के लिए कुछ नहीं रह गया। क्या अब भी तुम्हें सतोष नहीं हुआ ?