पृष्ठ:मानसरोवर भाग 3.djvu/२४२

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


डिको के रुपये २४१ । उसने एक समाचार-पत्र निकाला। एड ने राज्याधिकार का रास्ता लिया, जिसका लक्ष्य धन था, और दूसरे ने सेवा-मार्ग का सहारा लिया, जिसका परिणाम ख्याति, कष्ट और कभी-कभी कारागार होता है। नईम को उसके दफ्तर के बाहर कोई न जानता था; किन्तु वह बंगले में रहता, हवागाड़ी पर हवा खाता, थिएटर देखता और गरमियों में नैनीताल की सैर करता था। कैलास को सारा संसार जानता था, पर उसके रहने का मकान कच्चा था, सवारी के लिए अपने पाव । बच्चों के लिए दूध भी मुश्किल से मिलता। साग-भाजी में काट-कपट करना पड़ता था। नईम के लिए सबसे बड़े सौभाग्य की बात यह थी कि उसके केवल एक पुत्र था; पर कैलास के लिए सबसे बड़ी दुर्भाग्य की बात उसकी सन्तान वृद्धि थी जो उसे पनपने न देती थी। दोनों मित्रों में पत्र व्यवहार होता रहता था। कभी-कभी दोनों में मुलाकात भी हो जाती थी। नईम कहता था-यार, तुम्ही मले में हो, देश और जाति को कुछ सेवा तो कर रहे हो। यहाँ तो पेट पूजा के सिवा और किसी काम के न हुए। पर यह पेट पूजा' उसने कई दिनों को कठिन तपस्या से हृदयगम कर पाई थी, और उसके प्रयोग के लिए अवसर हूँढ़ता रहता था। कैलास खूप समझता था कि यह केवल नईम को विनयशीलता है। यह मेरी फुदशा से दुःखी होकर मुझे इस उपाय से सांत्वना देना चाहता है। इसलिए वह अपनी वास्तविक स्थिति को उससे छिपाने का विफल प्रयत्न किया करता था। विष्णुपुर की रियासत में हाहाकार मचा हुआ था। रियासत का मैनेजर अपने घंगले में, टोक दोपहर के समय, सैकड़ों आदमियों के सामने, कत्ल कर दिया गया था। यद्यपि खूनी भाग गया था, पर अधिकारियो को सन्देह था कि कुअर साहस की दुष्प्रेरणा से हो यह हत्याभिनय हुआ है। र साहस अभी हालिग न थे रियासत का प्रबन्ध कोर्ट आफ वार्ड द्वारा होता था। मैनेजर पर कुँ भर साहस को देख-रेख का मार भी था। विलास प्रिय कुँअर को मैनेजर का हस्तक्षेप बहुत ही बुरा मालूम होता था । दोनों में बरसों से मनमुटाव था। यहां तक कि कई पार प्रत्यक्ष कटु वाक्यों को नौषत भी आ पहुंची थी। अतएव भर साहस पर सन्देह होना स्वाभाविक ही था। इस घटना का अनुसन्धान करने के लिए जिले के हाकिम ने मिरका नईम को नियुक किया। किसी पुलिस कर्मचारी द्वारा तहकोक्रात कराने में कुंभर साहब के अपमान का भय था। ।